How To Enter Transaction In Journal In Tally ERP 9 In Hindi Part 4

How To Enter Transaction In Journal Part 4

transaction in journal in hindi
Transaction Entry In Journal Part 4


  • आप सभी का Tally ERP 9 Tutorial में स्वागत है। इससे पिछले Tutorial में हमे Transaction Entry Part 3 के बारे में जाना था। आज के इस Tutorial में हम Transaction Entry In Journal के Part 4 के बारे में जानेगे।

How To Enter Transaction In Journal 
Part 4 ?
transaction entry example in tally erp 9
Example


  • जैसा की हमने आपको बताया था की जब व्यापार से निजी खर्च हेतु रुपया निकाला जाता है तो वो कहलाता है Drawing (आहरण) इसलिए ये आएगा  Drawing Account के अंतर्गत। चूकी से Cash में है तो जो दूसरा हमारा जो Account प्रभावित होगा वो होगा Cash Account.

  • Drawing Account जो की Personal Account होगा क्योकि ये वयवसायी से स्वामी का Account है। इसमें प्राय: हम स्वामी का नाम नहीं लिखते है। अगर व्यापार के स्वामी एक से ज्यादा हो तो फिर हम उनके नाम से ये Account खोलेंगे। जैसे अगर व्यापार के स्वामी अमित और सुमित है तो हम लिखेंगे अमित का Drawing Account और सुमित का Drawing Account.


  • Personal Account का नियम जो कहता है पाने वाले को Debit करो तथा देने वाले को Credit करो अब इस नियम की अनुसार चूकि ये Account व्यापार के स्वामी के नाम से नहीं बनता है पर ये उसी का प्रतिनिधित्व करता है तो ये जो पैसा पाने वाला है वो है व्यवसाय का स्वामी जिसका से Account है इसको हमे करना है Debit.

  • Real Account के नियमानुसार जो वस्तु व्यापार से जाये उसे Credit करो और यहां पर Cash जा रहा है इसलिए ये हो जायेगा Credit. इसको हम ऐसे लिखेंगे:- Drawing Account Debit To Cash Account .

example of transaction entry in tally

  • यहां पर माल नगद बेचा गया है तो एक तो हमारा Cash Account प्रभावित होगा और ये एक प्रकार की Sale है तो दूसरा हमारा Sales Account प्रभावित होगा। Cash Account आता है Real Account के अंतर्गत और Sale जो की हमारी एक प्रकार की Income है तो वो आ जायेगा Nominal Account के अंतर्गत।


    cash account, sales account
  • Real Account में जो वस्तु व्यापार में आये उसे Debit किया जाता है। यहां पर हमने अपना माल बेचा है और हमारे पास Cash आया है इसलिए हम इसको करेंगे Debit.
  • Nominal Account के नियम के अनुसार आय को Credit किया जाता है इसलिए Sales Account हो जाएगा Credit. इसको हम लिखेंगे:- Cash Account Debit To Sales Account.




  • यहां पर नगद खरीदा या उदार ऐसा कुछ भी नहीं लिखा है। जैसा की हमने आपको पहले नियम बताया था की अगर नगद या उदार न लिखा हो और किसी व्यक्ति या Company का नाम भी न हो तो उसे हम नगद ही मानते है।

  • यहां पर हमने Furniture खरीदा है तो एक तो हमारा हो जाएगा Furniture Account. दरससल ये Purchase नहीं है क्योकि ये माल नहीं है जिसका की हम Business करते है या क्रय विक्रय करते है बल्कि Office को सुचारु रूप से चलाने के लिए खरीदा जा रहा है इसलिए ये जाएगा Furniture Account में और ये Cash में खरीदा गया है तो दूसरा हम Cash Account प्रभावित होगा।

    how to enter furniture account in tally

  • Furniture Account जो है चूकि ये Furniture हमारी सम्पत्ति हो गयी जिसे हम निरंतर या आगे तक इस्तेमाल में ला सकते है Office को सुचारु रूप से चलाने के लिए तो ये हो जाएगा Real Account और Cash तो सम्पत्ति होता ही है इसलिए Furniture Account और Cash Account ये दोनों आएंगे Real Account के अंतर्गत।

  • Real Account के नियमानुसार जो वस्तु व्यापार में आती है उसे Debit किया जाता है। व्यापार में आया है फर्नीचर इसलिए ये होगा Debit और जो वस्तु व्यापार से जाती है उसे Credit किया जाता है। व्यापार से जा रहा है Cash इसलिए ये हो जायेगा Credit. इसको हम लिखेंगे Furniture Account Debit To Cash Account.

Post a Comment

If you have any issue, Please comment we are reply your comment as soon as.

Previous Post Next Post