How to enter transaction in journal in Tally ERP 9 Learn in hindi

How to enter transaction in journal in Tally ERP 9 Learn in hindi 





  • आप सभी का Tally ERP 9 Tutorial में स्वागत है। इससे पिछले Tutorial में हमने आपको Journal Format के बारे में जानकारी दी थी। आज के Tutorial में हम Tally में Transaction की Entry करना सीखेंगे।

How to Enter Transactions In Journal 


जो भी Transactions होती है उनको Tally के अंदर Journal में लिखा जाता है। उदहारण के लिए प्रकाश में एक Business Start किया 20000 रूपये में और रोजमर्रा में उसके जो भी Transactions हुए वो सब उसने याद रखने के लिए एक कागज पर लिख लिए। अब हम ये जानेगे की उनकी Entry कैसे करते है।

ध्यान रखने योग्य बातें:-
  •  प्रभावित होने वाले दो खाते कौनसे है। 
  • खातों का प्रकार क्या है। 
  • प्रभावित होने वाले खातों के नियमानुसार डेबिट और क्रेडिट होने वाले खाते कोनसे है। 

ये सारी बाते हम एक उदहारण के द्वारा समझते है:- 

  • एक प्रकाश नाम के वयक्ति ने 20000/- रूपये लगाकर एक Business Start किया है। ये जो 20000 रूपये है जो की नगद लगे है ये Cash Account के अंतर्गत आएंगे। हम ये हम ये भी जानते है की किसी Business को शुरू करने में जो माल लगता है वो Capital Account के अंतर्गत आता है। इसलिए यह पर प्रभावित होने वाले दो खाते है Cash Account और Capital Account I व्यापार का स्वामी जो भी Cash या माल व्यापार में लगाता है वह व्यापार का ऋण कहलाता है। व्यापार इस दृस्टि से Business को जो भी मालिक है उसका ऋणी बन जाता है यानि Debtor बन जाता है और व्यापार का जो स्वामी है वो उस बिज़नेस का Creditor बन जाता है। लेकिन दूसरे Creditors की तरह इस Creditor का यानि जो भी Business का स्वामी है उसका कोई व्यक्तिगत खाता नहीं खोला बल्कि Capital Account खोला जाता है और इसे हम व्यापार के स्वामी का Personal Account कह सकते है। जब व्यापार के स्वामी एक से अधिक होते है तो Capital के साथ उनका नाम भी जुड़ जाता है। जैसे मान लीजिये इस व्यापार का मालिक केवल प्रकाश ना होकर के अगर प्रकाश और सूरज दोनों इसके स्वामी है तो Capital के साथ हम उनका नाम जोड़ देंगे और फिर ये हो जायेगा प्रकाश का Capital Account सूरज का Capital Account और इसमें उनके द्वारा जो भी रकम लगाई गयी है वो लिखी जाएगी।

  • अब हम ये जानेगे की Cash Account और Capital Account किस के अंतर्गत आते है। हम जब आपको खातों के प्रकार बताये थे तब समझाया था की वो खाते जो किसी वस्तु या सम्पति से सम्बंधित हो वो Real Account कहलाते है। जैसे यहां पर हमारा जो Cash (20000) है वो हमारी सम्पत्ति है इसलिए Cash Account Real Account के अंतर्गत आएगा

  • Capital Account ये प्रकाश का खुद का खाता है और जैसा की हम जानते है की Personal Accounts जो होते है ये वो खाते होते है जो किसी भी वयक्ति,फर्म, संस्था, कम्पनियो, से सम्बन्ध रखते है। Capital Account प्रकाश से सम्बंधित है तो इसलिए ये Personal Account के अंतर्गत आएगा




अब हम जानेगे की किस Account को Debit करना है और किस Account को Credit करना है। 

  • Real Account के अनुसार जो वस्तु व्यापार में आये उसे Debit करो और जो वस्तु व्यापार से जाये उसे Credit करो।
  • Personal Account के अंतर्गत पाने वाले को Debit करो और देने वाले को Credit करो 
जब Transaction में यह न दिया हो की माल नगद बेचा गया है या उदार जैसे प्रकाश ने राम से माल खरीदा लेकिन यहा ये नहीं लिख रखा की नगद खरीदा है या उदार जब भी ऐसा लिखा हो परन्तु वयक्ति का नाम दिया हो जैसे राम तो इसका मतबल ये होगा की माल उदार बेचा गया है या खरीदा गया है। अब हमे ये जानना है की इसके अंतर्गत कौन-कौन से खाते प्रभावित होते है।
  1. एक तो हमारा हो गया Purchase Account क्योकि यहा पर हमने राम से माल खरीदा है। Purchase Account आएगा Nominal Account के अंतर्गत क्योकि ये वो खाते होते है जिनका सम्बन्ध किसी लाभ या हानि या फिर आय या व्यय से होता है। यह पर हमने राम से माल खरीदा है इसका मतलब खर्चा हुआ एक प्रकार से Purchase Account जो है खर्चे में आता है। वो एक प्रकार का व्यय है इसलिए ये आएगा Nominal Account में।

  2. दूसरा हो गया हमारा Personal Account जो की राम का खाता है। क्योकि यह किसी व्यक्ति से संबंधित है।




नोट:- आपको हमारी ये जानकारी कैसी लगी और अगर आपका Tally से सम्बंधित कोई सवाल या सुझाव है तो आप हमे कमेंट करके जरूर बताये। 

Post a Comment

If you have any issue, Please comment we are reply your comment as soon as.

Previous Post Next Post